Saturday, January 5, 2013

To Mithun & San

आसन नहीं होता,
सच्चा दोस्त पाना।
आसन नहीं होता,
दोस्त मैं जीवनसाथी पाना।

उमर निकल जाती है,
इस उम्मीद मैं।
आपको मिला सब,
आपके हमसफ़र में।
ऐसे ही चलता रहे,
सददा जीवन आपका।

हर गुण है इस जोड़ी मन,
जो दिल में राज़ करती है।
खुबसूरत ह़ी  नहीं,
खुबसीरत भी आप हो।
इस तरह हर साल,
सालगिराह आप बनाओ।
हर सालगिराह,
प्यार हमसे पाओ।


No comments: